मशहूर ग़ज़ल गायक(जगजीत सिंह) कभी शादी-ब्याह के फंक्शन में गाना गाकर गुजारा करते थे, आज बन गए ‘गजल सम्राट’

मशहूर ग़ज़ल गायक(जगजीत सिंह)  कभी शादी-ब्याह के फंक्शन में गाना गाकर गुजारा करते थे, आज  बन गए ‘गजल सम्राट’

10 अक्टूबर को ‘गजल सम्राट’ जगजीत सिंह की पुण्यतिथि थी. उन्हें इस दुनिया को छोड़े हुए 9 साल बीत चुके हैं. साल 2011 में जगजीत सिंह का ब्रेन हैमरेज के चलते निधन हुआ था. भले ही जगजीत सिंह अब हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनके गाये गाने आज भी लोगों के दिलों में जिंदा हैं. आज भी लोग उनके सदाबहार गजलों को सुनना पसंद करते हैं. आज की इस स्टोरी में हम आपको उनकी लाइफ से जुड़ी कुछ खास बातें बता रहे हैं.

 

08 फरवरी 1941 को राजस्थान के श्रीगंगानगर में जगजीत सिंह का जन्म हुआ था. बचपन में लोग उन्हें जगजीवन के नाम से जाना करते थे. कहा जाता है कि उन्हें अपना नाम पसंद नहीं था, जिस वजह से उन्होंने खुद अपना नाम बदलकर जगजीवन से जगजीत रख लिया था. सरकारी स्कूल से जगजीत सिंह ने अपनी पढ़ाई पूरी की थी. स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने खालसा कॉलेज में एडमिशन लिया था.

Advertisements

बहुत लोगों को जानकारी नहीं होगी कि जगजीत सिंह ने लंबे समय तक ऑल इंडिया रेडियो जालंधर में काम किया था. यहां वह बतौर सिंगर और म्यूजिक डायरेक्टर काम किया करते थे. जगजीत सिंह ने संगीत में अपनी शिक्षा उस्‍ताद जमाल खान से ली थी. उनसे उन्होंने खयाल, ठुमरी और ध्रुपद में पारंगत हासिल किया था. जगजीत सिंह केवल हिंदी नहीं बल्कि पंजाबी, उर्दू, बंगाली, गुजराती, सिंधी और नेपाली भाषाओं में भी गजलें गाते थे.

Advertisements

 

बाकी कलाकारों की तरह एक सफल मुकाम तक पहुंचने के लिए जगजीत सिंह ने भी अपने जीवन में कड़ा संघर्ष किया था. अपने शुरूआती दिनों में जगजीत सिंह ब्याह-शादियों में गाकर अपना गुजारा किया करते थे. हालांकि मुंबई तो वे काम की लालसा से पहुंचे थे, लेकिन काम नहीं मिलने पर उन्होंने शादियों में परफॉरमेंस देनी शुरू कर दी थी. बात करें जगजीत सिंह की पर्सनल लाइफ की तो उन्होंने चित्रा दत्ता को अपनी हमसफर के रूप में चुना था. साल 1969 में इन्होंने शादी रचाई थी. चित्रा की जगजीत सिंह से ये दूसरी शादी थी. पहली शादी से उन्हें एक बेटा था, जिसकी कार एक्सीडेंट में मृत्यु हो गई थी. कहा जाता है कि बेटे की मौत के बाद चित्रा ने गाना छोड़ दिया था.

Advertisements

साल 1976 में रिलीज़ हुई जगजीत सिंह और चित्रा की एल्बम ‘The Unforgettable’ काफी हिट हुई थी. इसके बाद कपल का साल 1980 में एक और एल्बम ‘वो कागज की कश्ती’ आया, जो कि उस साल का बेस्ट सेलिंग एल्बम रहा था. उसी टाइम से जगजीत सिंह को ‘गजल किंग’ का तमगा मिल गया था. पद्मा भूषण अवार्ड से भी वे साल 2003 में सम्मानित हुए थे. कभी लालटेन की लौ में अपनी पढ़ाई करने वाले जगजीत सिंह ने अपने नाम और संगीत की लौ पूरी दुनिया में जलाई. हमारे बीच नहीं होते हुए आज भी वह अपने गीतों के जरिये जिंदा हैं. उनकी आवाज़ सुनकर आज भी दिल को सुकून मिलता है.

Advertisements

डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज सोशल मीडिया वेबसाइट से म‍िली जानकारियों के आधार पर बनाई गई है. newswoofer.com अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. “धन्यवाद” ]

Advertisements

admin